Monday 12 September 2011

साँस लेता है कोई



   खुद की ही गहराइयों में साँस लेता है कोई,
   ख़ुशी में घुली उदासी , जान लेता है कोई.
   अँधेरे और उजाले में, छिड़ा है पुरजोर द्वंद्व,
   फिर कौन  देखता है, दोनों को एक संग .




Saturday 9 April 2011

"शब्द और सत्य"

                                 शब्दों का यदि कहें ,आखिर सत्य क्या है 
                                 यदि शब्द ही सत्य हैं तो प्रक्रति प्रदत्त क्या है 

                                 माना की शब्दों ने जीवन को कई नए आयाम दिए हैं 
                                 एक साथ मिलकर शब्दों ने रचनात्मक निर्माण भी किये है 

                                 सच है शब्द खुद को फैलाने का आसान सहारा हैं  
                                 कभी गुस्सैल  हैं ,कभी प्रेमी हैं तो कभी आवारा हैं 

                                समझ पता हूँ इनकी ताकत तभी तो डरता हूँ 
                                वेबस हूँ ,कुछ कहने को इन्ही  का प्रयोग करता हूँ 

                                मन की अभिव्यक्ति वेशक, शब्द की डाली पर फलती है  
                                हुआ करते थे कभी सहारा,अब दुनिया शब्दों पर चलती है

                                शब्दों के हैं सौदागर यहाँ ,शब्दों के दीवाने हैं
                                नापना चाहो किसी को अगर शब्द ही पैमाने हैं

                                शब्दों से दुखित होते हैं, हम खुशियाँ इन्ही से पाते हैं
                                अंतर्मन के सभी फसाने इन्ही से महसूस किये जाते हैं

                                शब्दों के इस जगत में कुछेक को आसानी भी है
                                कुछ बेचारे यूँही वेबस है ,बरबस ही परेशानी भी है

                                कहीं कहीं शब्दों का लक्ष्य वार्तालाप है,और कुछ भी नहीं 
                                भरमाने वाले इस जगत में अक्सर ऐसा होता तो नहीं 

                               प्रतिशत वहुत कम है, मगर "मौन" भी जीवित है कहीं 
                               हरेक को शब्द पर तौलने की कोशिश करना भी नहीं 

                               शब्दों से बाँधकर तुमने जाने कितने अनुमान गढ़े होंगे
                               हो सकता है कुछेक तौल पर ठीक-ठाक भी चढ़े होंगे

                               हर एक गहराई को फिर भी एक मत समझ बैठना
                               कभी कभी निगाहों से भी मुश्किल होता है देखना

                              अनुमानों कि विनाह पर कुछ कम ही अकड़ना
                              जीवन इतना तरल है, की आसाँ नहीं है पकड़ना

                              वैसे तो दुनियाँ सरल है, शब्दों ने जटिल किया है
                              सीधा सा भी अगर सच है उसको भी घुमा दिया है

                              कुसूर नहीं ये तुम्हारा, सब ज़माने कि गलती है 
                              हुआ करते थे सहारा, अब दुनियाँ शब्दों पर चलती है 

                              कभी कभी अस्तित्व पर इतना प्यार होता है
                              करैं कुछ भी, कहें कुछ भी, सब बेकार होता है

                              माफ़ करैं हमें,यदि आपके दिल,हमारे शब्दों में ठनी है
                              कोशिश करना दूर हो सके,यदि कहीं ग़लतफ़हमी बनी है 

                              शब्दों के प्रभाव को देखकर, अब खुद को सिकोड़ना चाहूँगा
                              पानी हूँ,बहना तो नहीं छोड़ सकता,हाँ रूख़ जरुर मोड़ना चाहूँगा    

Wednesday 2 February 2011

समानता पर चाहिए

ठगे से पैरों में हलचल दिखाई पड़ती है 
बदलते दौर कि आहट सुनाई पड़ती है .
  
खुश हूँ , कि कली पर रुबाब आया है 
जमे हुए पानी पर फिर वहाब आया है .

लौट आई है ,चमेली पर भूली सी महक 
याद आई है , बुलबुल को वही प्यारी चहक .

खुश हूँ , खुशियों के सही मायने के लिए 
खुद को दिखा सके , उसी आईने के लिए .

चिंगारी और भी भड़के यही फर्माहिश है 
सारा जंगल ये जला दे , यही ख्वाहिश है .

सब कुछ देखता हूँ , फिर भी ये ख्याल आता है 
जुवां पे फिर भी, बरबस ये  सवाल आता है 

ख़ुशी की कलम में कहीं दुख कि स्याही तो नहीं 
ख़ामोशी ये ,कहीं किसी तूफ़ान की गवाही तो नहीं .

बड़ चला जो कारवां , कहीं रुक तो न जायेगा 
उन्मुक्त परिंदा ,कहीं पिंजरे में तो न आएगा .

समय अभी वहुत है , अंजाम कई है बाकी
जाम तो छलकता है , पर आधा ही है साकी .

समय की आढ़ में बहुतेरे ख्वाब भी बुनते है 
कली को नहीं , तोड़ने सब फूल ही चुनते है .

जो दिखाई दे हो सकता है; हो ही न कहीं 
सम्भावना तो उसकी भी है , जो दिखता ही नहीं 

नहीं ;घबराना नहीं , आग में कूद जाना है 
मरना तो कभी है नहीं, नया जीवन पाना है .

सवाल तेरा ही नहीं , सारे उपवन का भी है  
ड़ाल , पत्ते , कलियाँ और सावन का भी है.

अस्तित्व एक है सबका , और कहाँ जाइये 
भेद तो बहुत सुन्दर है , समानता पर चाहिए .